यूपी में प्रियंका गांधी की नई टीम, राज बब्बर की छुट्टी, अजय कुमार लल्लू को बनाया अध्यक्ष, इसलिए हुआ फेरबदल


उत्तर प्रदेश कांग्रेस में बड़ा फेरबदल किया गया है. प्रदेश की नई कांग्रेस कमेटी का ऐलान सोमवार को किया गया. यूपी में प्रियंका गांधी ने अपनी नई टीम बना ली है. राज बब्बर की छुट्टी करते हुए यूपी कांग्रेस का अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू (Ajay kumar Lallu) को बनाया गया है. अजय कुमार लल्लू विधानसभा में कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता हैं. वे कुशीनगर के तमकुहीराज से कांग्रेस के विधायक हैं. आराधना मिश्रा ‘मोना’ को बनाया कांग्रेस विधायक दल का नेता बनाया गया है.

अराधना मिश्रा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी की बेटी हैं और प्रतापगढ़ के रामपुर से विधायक हैं. ललितेश मणि त्रिपाठी को पार्टी का उपाध्यक्ष बनाया गया है. बताया जाता है कि प्रियंका गांधी ने दो महीने की मशक्कत के बाद यह नाम तय किए हैं. नई टीम में युवाओं को तरजीह दी गई है. राज्य कांग्रेस की नई कमेटी में 45 सदस्य हैं.

यूपी कांग्रेस की नई कार्यकारिणी में 4 उपाध्यक्ष, 12 महासचिव और 24 सचिव भी बनाए गए हैं. उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी घोषित होने के साथ ही 18 वरिष्ठ नेताओं की एक सलाहकार समिति भी गठित की गई है, जिसकी अध्यक्षता खुद प्रियंका गांधी करेंगी. इसके अलावा एक 8 सदस्यों का स्ट्रेटिजी ग्रुप भी बनाया गया है, जिसमें तेज-तर्रार अनुभवशाली नेताओं को रखा गया है.

युवाओं को प्रतिनिधित्व देने का संकेत उपचुनाव की रणनीति से साफ हो गया था. कांग्रेस महासचिव की पसंद नौजवान लीडरशिप है. कांग्रेस ने उपचुनाव में युवाओं को मौका दिया और अब संगठन में भी युवा नेतृत्व को मौका मिला है. इसमें जातीय दबदबा नहीं देखा गया बल्कि समावेशी जातीय समीकरण देखे गए हैं. कमेटी में लगभग 45 फीसदी पिछड़ी जातियों को प्रतिनिधित्व दिया गया है. पिछड़ी जाति में भी हशिए पर खड़ी अतिपिछड़ी जातियों पर ज्यादा फोकस किया गया है.

कमेटी में महिलाओं को भी उचित प्रतिनिधित्व दिया गया है. जमीनी नेताओं और संघर्षशील कार्यकर्ताओं को तरजीह दी गई है. जनाधार वाले संघर्षशील कार्यकर्ताओं को जगह मिली है. कांग्रेस महासचिव ने भी सोनभद्र, उन्नाव और शाहजहांपुर कांड में अपनी सक्रियता दिखाकर पहले ही साफ कर दिया था कि आने वाली कांग्रेस सड़कों पर लड़ती दिखेगी. बताया जाता है कि महीनों मंथन, साक्षात्कार, संवाद और जमीनी रिपोर्ट पर नई कमेटी तैयार हुई है.

2019 के लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद से ही यूपी कांग्रेस में सर्जरी की ख़बरें आ रही थीं, प्रियंका गांधी ने मैराथन बैठकों के बाद नई टीम तैयार की और अब औपचारिक ऐलान किया गया है. नई कार्यकारिणी के सामने सबसे पहली चुनौती 11 विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनाव में बेहतर प्रदर्शन करना है. उसके बाद संगठन की मजबूती और खुद को विपक्षियों में नंबर वन साबित करने की भी चुनौती होगी.