बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने संसद में नाथूराम गोडसे को बताया देशभक्त… मचा सियासी घमासान


नाथूराम गोडसे.. वो नाथूराम गोडसे जिन्होंने गांधी जी का इसलिए वध किया था क्योंकि वह गांधी को देश के विभाजन का जिम्मेदार मानते थे. गांधी जी की जान लेने के कारण नाथूराम गोडसे को फांसी दी गई थी. 
उन्हीं नाथूराम गोडसे के बारे में मध्यप्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी की सांसद तथा फायरब्रांड हिन्दू राष्ट्रवादी नेता प्रज्ञा ठाकुर के एक बयान पर सियासी घमासान मच गया है. दरअसल साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने लोकसभा में बहस के दौरान गोडसे को देशभक्त बताया है.
साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को देशभक्त उस समय बताया जब लोकसभा में एसपीजी अमेंडमेंट बिल पर चर्चा के दौरान डीएमके के सांसद ए. राजा बोल रहे थे. द्रमुक सांसद ए. राजा ने एसपीजी संशोधन विधेयक पर चर्चा के दौरान नकारात्मक मानसिकता को लेकर गोडसे का उदाहरण दिया, इस पर बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने उन्हें टोक दिया. बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने कहा, ‘आप एक देशभक्त का उदाहरण नहीं दे सकते.’
द्रमुक सांसद ए. राजा ने कहा कि गोड्से ने खुद कबूला था कि 32 सालों से उसने गांधी के खिलाफ रंजिश पाल रखी थी और आखिरकार उसने उनकी हत्या का फैसला किया. राजा ने कहा कि गोड्से ने गांधी की हत्या इसलिए की कि वह एक खास विचारधारा को मानता था. ए. राजा के इस बयान पर साध्वी प्रज्ञा ठाकुर अपनी सीट पर उठकर खड़ी हो गईं तथा उनको टोकते हुए कहा कि वह इस तरह से देशभक्तों का उदहारण नहीं दे सकते.
साध्वी प्रज्ञा के इस बयान पर संसद में हंगामा शुरू हो गया तथा कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी सांसदों ने साध्वी प्रज्ञा के बयान का विरोध किया. इस दौरान संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी भोपाल से भाजपा सदस्य प्रज्ञा को बैठने का इशारा करते नजर आये. इस दौरान विवाद बढ़ने पर लोकसभा अध्यक्ष ने कांग्रेस सदस्यों से बैठने की अपील करते हुए कहा कि सिर्फ ए राजा की बात रिकॉर्ड में जा रही है, साध्वी प्रज्ञा का बयान रिकॉर्ड नहीं किया जाएगा.