जनपद मुज़फ्फरनगर के नियाजुपुरा में हो रही थी नकली नोटों की छपाई। भारतीय अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुचाने वाले ठग शारिक, सलमान,व गुलफाम गिरफ्तार


जनपद मुजफ्फरनगर की थाना  सिविल लाइन पुलिस ने महमूदनगर इलाके में मुखबिर की सूचना एक मकान में जब छापेमारी की, वहा के हालात देख पुलिस भी हैरत में पढ़ गई मकान के अन्दर ही नकली नोट बनाने का गौरखधंधा चलाया जा रहा था छापेमारी के दौरान पुलिस ने नकली नोट छाप रहे 3 लोगों को भी मौके से गिरफ्तार किया
,जिसमे शारिक पुत्र फुरकान गली न 2 महमूद नगर,गुलफाम पुत्र मो यामीन नसीरपुर ,सलमान पुत्र सगीर अहमद निवासी हाजी पूरा जनपद  मुज़फ्फरनगर को मोके से गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेज दिया हैं।
साथ ही मकान से नकली 59 हजार रुपये, कलर स्कैनर प्रिंटर, कटर पेपर और भारी मात्रा में नकली नोट छापने के उपकरण बरामद किये हैं।  आरोपी युवक कलर स्कैनर प्रिंटर से 100 और 200  के नोट ही छापते थे, जिससे उनको मार्केट में आसानी से चलाया जा सके। पूछताछ में इन ठगों ने चौकाने वाला खुलाशा किया हैं। 
जब उनसे पूछा गया की 100 और 200 के नोट ही क्यों छापे जाते थे आरोपियों ने पुलिस को बताया की कोई भी व्यक्ति छोटे नोट पर शक नहीं करता हैं 2000 के नोट को कई बार चैक करता हैं इसी वजह से ये लोग छोटे नोट ही बनाते थे । यह गैंग इन नकली नोटो को  देहरादून व मुजफ्फरनगर सहित कई जनपदों में चलाते थे। अभी तक यह गैंग  कई लाख रु के नकली नोट बाज़ार में उतार चुके हैं। जिसका सीधा सीधा नुकसान देश की अर्थव्यवस्था को होने वाला हैं।